Friday, 25 June 2010

मत कहो

मत कहो बंद कर लो आँखें
फिर स्मृति-मेघ उमड़ आयेंगे.

आ-आकर अब मत छेडो
कोई कहता मुझको पागल
उसे तुम पागल ही कहने दो
अंताप्रदेश में भावों की
हिमशिला पड़ी रहने दो
मत उसे दिखाओ आँच
उसे तुम वहीं जमी रहने दो
नयनों को थिर रहने दो
मत कहो उठाओ यह पलकें
फिर सौ-सौ जलधि उमड़ आयेंगे

मत कहो बंद कर लो आँखें
फिर स्मृति-मेघ उमड़ आयेंगे.

मत कहो कभी हँसने को
मुझे स्वयं टूट जाने दो
मन में टूटी यादों के
खंडहर पड़े रहने दो
मत वहाँ टटोलो जाके
कुछ राज वहाँ रहने दो
मत छेड़ो स्मृति-तार
मुझे तुम बेसुध ही रहने दो
मत कहो गिराओ यह अलकें
मुख पर सावन-घन छा जायेंगे

मत कहो बंद कर लो आँखें
फिर स्मृति-मेघ उमड़ आयेंगे.

मुझे विगत भूल जाने दो
मन के इस नील निलय में
तुम शून्य भरा रहने दो
रसना को चुप रहने दो
मुझे गीत भूल जाने दो
मत छेड़ो राख चिता की
कुछ चिनगारी रहने दो
तुम अधर बंद रहने दो
मत कहो कि खोलो बंद अधर
यह अगणित विरह गीत गायेंगे

मत कहो बंद कर लो आँखें
फिर स्मृति-मेघ उमड़ आयेंगे.

6 comments:

  1. आपके ब्लोग पर आ कर अच्छा लगा! ब्लोगिग के विशाल परिवार में आपका स्वागत है! अन्य ब्लोग भी पढ़ें और अपनी राय लिखें! हो सके तो follower भी बने! इससे आप ब्लोगिग परिवार के सम्पर्क में रहेगे! अच्छा पढे और अच्छा लिखें! हैप्पी ब्लोगिग!

    ReplyDelete
  2. मत कहो गिराओ यह अलकें
    मुख पर सावन घन छा जायेंगे
    मत कहो बंद कर लो आँखें
    फिर स्मृति - मेघ उमड़ आयेंगे.
    वाह- वाह बहुत खूब.
    बेहद ही सशक्त कविता है, एकदम ह्रदय को छू गयी और ऐसा प्रतीत हुआ कि मैंने ही लिखी है.

    ReplyDelete
  3. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  4. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  5. Kahane ka andaz purana hai. Par Baat Samjh Aayi.

    ReplyDelete
  6. रोशन जी, राजीव जी एवं शब्दार्थ जी,
    मेरी रचना को सराहने व उसकी प्रशंसा करने के लिए आप लोगों को हार्दिक धन्यबाद.

    ReplyDelete